वाराणसी के एडीशनल सीएमओ की कोरोना से मौत, बीएचयू में चल रहा था इलाज


जनसंदेश न्यूज़
वाराणसी। कोराना के खिलाफ जंग में अग्रिम मोर्चे पर तैनात कोरोना योध्दा भी अब कोरोना के खूनी पंजे से बच नहीं पा रहे है। बुधवार को जनपद में कोरोना के खिलाफ जंग लड़ते हुए वाराणसी के एडिशनल सीएमओ डॉ जंगबहादुर की देर रात बीएचयू के कोविड हॉस्पिटल में मौत हो गई। जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने इसकी जानकारी देते हुए बताया कि यह जनपद के लिए अपूरणीय क्षति है। इस बात की जानकारी जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने दी है।
डॉ जंगबहादुर को कोरोना पॉजिटिव आने पर गैलेक्सी हॉस्पिटल में एडमिट कराया गया था, जहाँ दो दिन पूर्व लिया गया उनका सैम्पल निगेटिव आया था, लेकिन दुबारा की गयी जांच में देर रात उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आयी और उन्हें गंभीर अवस्था में गैलेक्सी से बीएचयू में आईसीयू में शिफ्ट किया गया था, जहाँ उनकी मौत हो गयी।
ज्ञातव्य हो कि एसीएमओ डॉ. जंग बहादुर कोरोना संक्रमण के खिलाफ चल रहे लड़ाई में अग्रिम मोर्चे पर डटकर मुकाबला कर रहे थे और जनपद में कोविड हॉस्पिटल, कोविड मेडिकल स्टाफ और क्वारंटाइन सेंटर्स की व्यवस्था को अपने कुशल निर्देशन में संपन्न करवा रहे थे। 
कोरोना के खिलाफ लड़ाई के दौरान डा. जंग बहादुर इसकी चपेट में आ गये। जिसके बाद उन्हें बीएचयू के कोविड वार्ड में भर्ती किया गया था। बीते दिनों अचानक उनकी तबियत बिगड़ने पर आईसीयू में शिफ्ट किया गया था, जहाँ उनकी मौत हो गयी।
एसीएमओ की मौत के बाद जनपद के चिकित्सा विभाग में शोक की लहर दौड़ गई। वहीं दूसरी तरफ जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा को इसकी जानकारी होते ही उन्होंने एडीशनल सीएमओ की मौत पर गहरा दुःख जताया है और इसे वाराणसी जिला प्रशासन की अपूरणीय क्षति बताया है।


 


Popular posts from this blog

यूपी में होगी नौकरियों की बारिश, तीन लाख युवाओं को मिलेगी नौकरी, जानिए किस विभाग में है कितना पद खाली?

सीएम योगी का बड़ा फैसला, यूपी में अगले तीन महीनों में सभी खाली पदों पर भर्तियां, छह महीनों में नियुक्ति के निर्देश

यूपी में नौकरियों की भरमार, अपनी दक्षता के अनुरूप जॉब तलाशेें युवा, यहां देखें पूरा डिटेल