रिश्तेदार चला रहा कारोबार, कुछ दिन पहले ही प्रशासन ने सीज की थी दुकान, मुकदमा दर्ज 

- धौकलगंज में गत दिनों सीज की गयी दुकान के विक्रेता व रिश्तेदार के खिलाफ प्राथमिकी
- शासन के निर्देश के बावजूद शनिवार को कई इलाकों में उर्वरक की कुछ दुकानें मिलीं बंद



सुरोजीत चैटर्जी
वाराणसी। जनपद में उर्वरक की दुकानों पर छापेमारी समेत औचक जांच-पड़ताल का अभियान जारी है। गत दिनों धौकलगंज में जिस दुकान को अनियमितता के आरोप में सीज किया गया था, वहां विक्रेता के लाइसेंस पर उसका रिश्तेदार कारोबार संभालते पाया गया। दोनों के विरुद्ध शनिवार को प्राथमिकी दर्ज करायी गयी है। दूसरी ओर, बंदी के दिनों में भी उवर्रक आदि की दुकानें खोलने के निर्देश के बावजूद शनिवार को कई दुकानें बंद पायी गयीं।


उर्वरकों की दुकानों पर कालाबाजारी रोकने, मय मूल्य से अधिक रेट पर यूरिया बेचने समेत अन्य अनियमितताओं पर लगाम कसने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के सख्त तेवर के बाद लगातार मुहिम चलायी जा रही है। प्रतिदिन अफसर जनपद के विभिन्न उर्वरकों की दुकानों की जांच कर रहे हैं। इसी क्रम में बीते दिनों धौकलगंज में पटेल फर्टिलाइजर नामक एक दुकान को कई प्रकार की अनियमितता पर सीज कर दिया गया था।


बाद में हुई और भी गहन पड़ताल में पाया गया कि उस दुकान के विक्रेता दिनेश कुमार पटेल के नाम लाइसेंस है जबकि मौके पर दिनेश का रिश्तेदार एवं स्थानीय निवासी रूपचंद पटेल उस दुकान का व्यवसाय संभालता है। मामले का खुलासा होने पर शनिवार को लाइसेंसधारक दिनेश कुमार पटेल और उसके रिश्तेदार रूपचंद पटेल के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करायी गयी।


जिला कृषि अधिकारी सुभाष मौर्य ने जानकारी देते हुए बताया कि दोनों व्यक्तियों के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई होगी। इधर, शनिवार को श्री मौर्य ने अपनी टीम के साथ करसड़ा, जक्खिनी, शहंशाहपुर, राजातालाब आदि इलाकों में स्थित उर्वरक की दुकानों का आकस्मिक निरीक्षण किया। उन्होंने बताया कि मुआयने के दौरान उर्वरक की कई दुकानें बंद मिलीं। जबकि शासन ने साप्ताहिक बंदी शनिवार तथा रविवार को भी उर्वरक, बीज, कृषि रसायन आदि की दुकानें निश्चित समय तक खोलने का आदेश दिया है। शनिवार के अभियान के दौरान कोई कार्रवाई नहीं हुई।


Popular posts from this blog

यूपी में होगी नौकरियों की बारिश, तीन लाख युवाओं को मिलेगी नौकरी, जानिए किस विभाग में है कितना पद खाली?

सीएम योगी का बड़ा फैसला, यूपी में अगले तीन महीनों में सभी खाली पदों पर भर्तियां, छह महीनों में नियुक्ति के निर्देश

यूपी में नौकरियों की भरमार, अपनी दक्षता के अनुरूप जॉब तलाशेें युवा, यहां देखें पूरा डिटेल