नूरपुर कांड: पीड़ित ब्राम्हण परिवार से मिलने पहुंचे कांग्रेस नेता, प्रदेश महासचिव बोले, ब्राम्हणों पर पुलिसिया अत्याचार शर्मनाक 


जनसंदेश न्यूज़
नगसर/गाजीपुर। नूरपुर गांव में ब्राम्हणों पर पुलिसिया अत्याचार के बाद राजनीतिक दलों के बड़े नेताओं का आगमन शुरू हो गया हैं। सभी पार्टी के नेता अपने स्तर से इनकी आवाज उठाने की बात कर न्याय दिलाने  का भरोसा दिला रहे है। इसी क्रम में सोमवार को कांग्रेस के पूर्व सांसद राजेश मिश्रा एवं प्रदेश महासचिव विश्वविजय सिंह पीड़ितों का हाल जानने पहुंचे।
वाराणसी पुर्व सांसद राजेश मिश्रा ने कहा कि  ब्राम्हण परिवार के  सदस्यों पर जिस प्रकार पुलिस ने बर्बरता पूर्वक पिटाई किया है, यह सरकार की कार्य प्रणाली पर सवाल उठाता हैं। योगी सरकार में पुलिस अपराधियों को पकड़ने के बजाय गांव में जीवनयापन करने वाले आमलोगों पर  कहर बरपा रहे है। इस घटना को शर्मनाक बताते हुए पूरे मामले को पार्टी के  लीडर प्रियंका गांधी से अवगत कराने की बात पीड़ितों से कहे। उन्होंने कहा कि नगसर पुलिस को बर्खास्त करने के साथ जांच के बाद उन पर भी मुकदमा दर्ज होना आवश्यक है। अगर ऐसा नही होगा तो इस मामले को पार्टी सड़को पर उतरकर लड़ाई लड़ेगी।  
प्रदेश महासचिव विश्वविजय सिंह ने कहा कि योगी सरकार में आपराधिक घटनाएं बढ़ गई हैं।  पुलिस  अपने  मनमानी पर उतर आई हैं।  प्रतिदिन अखबारों एवं चौनलों के माध्यम से एक से बढ़कर एक घटनाएं सामने आ रही हैं। यूपी में भाजपा सरकार असफल साबित हो गई हैं। विकास के मुद्दे के साथ ही बेरोजगारी बढ़ गई हैं। इसके साथ ही इस सरकार में भ्रष्टाचार भी चरम पर हैं।  
इस अवसर पर जिलाध्यक्ष सुनील राम, पंकज दुबे, शहर अध्यक्ष सुनील शाहू, मजहर खान, चंद्रिका सिंह, बालेश्वर हरिओ यादव, विद्याधर पांडेय, मनोज कुशवाहा, अजय श्रीवास्तव आदि लोग मौजूद रहे।


 


Popular posts from this blog

यूपी में होगी नौकरियों की बारिश, तीन लाख युवाओं को मिलेगी नौकरी, जानिए किस विभाग में है कितना पद खाली?

सीएम योगी का बड़ा फैसला, यूपी में अगले तीन महीनों में सभी खाली पदों पर भर्तियां, छह महीनों में नियुक्ति के निर्देश

यूपी में नौकरियों की भरमार, अपनी दक्षता के अनुरूप जॉब तलाशेें युवा, यहां देखें पूरा डिटेल