मिलेनियर बनने का विभूति का सपना तिवारी के लिए बना डरावना सपना!


जनसंदेश न्यूज़
इंदौर। एण्डटीवी के शो ह्यभाबीजी घर पर हैंह्य में मॉडर्न कॉलोनी में रहने वाले मनमोहन तिवारी (रोहिताश्व गौड़) और विभूति नारायण मिश्रा (आसिफ शेख) के बीच छोटी-छोटी बातों पर लगातार नोंक-झोंक देखी जा सकती है। हालांकि, एक-दूसरे की पत्नियों के प्रति इन दोनों का काफी लगाव है लेकिन दोनों एक-दूसरे को फूटी आंख नहीं सुहाते। घटनाओं के रोचक मोड़ में, विभूति तिवारी की दुकान ह्यकच्छे बनियान का खोखाह्य पर नौकरी मांगने के लिए जाता है। 


उसकी बातें सुनने के बाद तिवारी पहले तो उसे मना कर देता है लेकिन जल्द ही अनीता भाभी (सौम्या टंडन) के प्रति अपने प्यार के कारण वह अपने निर्णय पर दोबारा विचार करता है। हालांकि, विभूति के खिलाफ उसकी चिंता ज्यादा दिन नहीं रहती और वह उसके साथ बड़ी ही बेरहमी से पेश आना शुरू कर देता है। अपनी स्थिति से दुखी होकर विभूति नौकरी छोड़ देता है और लखपति बनने के लिए एक मेगा प्लान बनाता है। आखिरकार विभूति की योजना क्या है, और वह तिवारी से कैसे बदला लेगा?



अपने लखपति बनने की भव्य योजना के बारे में बताते हुए आसिफ शेख जो इस शो में विभूति की भूमिका निभा रहे हैं, ने बताया, ह्यह्यदर्शक इस एपिसोड को खूब पसंद करने वाले हैं। हर किसी ने कभी न कभी खड़ूस बॉस के साथ काम किया है जिन्होंने उनके साथ बुरा व्यवहार किया होगा। और विभूति के साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ है जब वह तिवारी जी के साथ उनकी दुकान ह्यकच्छे बनियान का खोखाह्य में काम करने की कोशिश करता है। 



विभूति तिवारी से बदला लेने के लिए एक योजना बनाता है। ऐसा करने में, विभूति लखपति बन जाएगा और यह तिवारी के लिए किसी सरप्राइज से कम नहीं है। वह जिज्ञासु और लालची है और अब विभूति के लिए अच्छा बनना चाहता है। और यह कुछ ऐसा है जो कहानी की मुख्य बात होगी और निश्चित रूप से दर्शकों को हंसा-हंसा कर लोट-पोट कर देगी। विभूति और तिवारी के बीच इस हास्यास्पद और मजेदार मजाक को देखना न भूलें ह्यभाबीजी घर पर हैंह्य के आगामी एपिसोड में, हरेक सोमवार से शुक्रवार, रात 10.30 बजे सिर्फ एण्ड टीवी पर!


 


Popular posts from this blog

'चिंटू जिया' पर लहालोट हुए पूर्वांचल के किसान

चकिया में देवर ने भाभी के लाखों के गहने और नगदी उड़ाये, आईपीएल में सट्टे व गलत आदतों में किया खर्च, एएसपी ने किया खुलासा

कुशवाहा कांतःअनुभूतियों में हमेशा जिंदा रहेंगे कालजयी साहित्य के अमर शिल्पी