इलाज के दौरान महिला की मौत, परिजनों ने किया जमकर हंगामा, तीन लाख देकर अस्पताल ने छुड़ाया पीछा

घंटों चले उग्र हंगामे व पहुंची पुलिस को देख फूले हाथ पांव




जनसंदेश न्यूज़
घूरपुर/प्रयागराज। घूरपुर के गौहनिया क्षेत्र में स्थित एक प्राइवेट अस्पताल में इलाज के दौरान एक महिला की मौत हो गई। परिजनों ने लापरवाही का आरोप लगा हंगामा किया। हंगामा बढ़ता देख पुलिस फोर्स भी पहुंच गई। मामला गरमाता देख अस्पताल के संचालक के भी पसीना छूट गए। घंटों हंगामा के बाद जान की कीमत देकर मामला को सलटाया तब जाकर मामला शांत हुआ। और परिजन शव लेकर घर गए।


घूरपुर के गौहनिया क्षेत्र के एक गांव की महिला अपने बीमारी थी। दो दिन पूर्व वह इलाज कराने गौहनिया की एक प्राइवेट अस्पताल में गई तो वहां भर्ती कर लिया गया। शनिवार के दिन महिला के बच्चेदानी की आपरेशन की गई। तो उसकी हालत और बिगड़ती चली गई और रात में अस्पताल में मौत हो गई। मौत हो जाते देख अस्पताल संचालक के हांथ पांव फूल गए। 
परिजनों को बताया कि हालत खराब है उसे शहर ले जाना पड़ेगा। आरोप है कि अस्पताल के संचालक मरने के बाद अस्पताल के संचालक स्वयं के एंबुलेंस से शहर ले कर चल दिए और थोड़ी ही दूर जाने के बाद मौत हो जाने की बहाना बताते परिजनों को शव ले जाने की बात करने लगे। रात भर महिला की शव अस्पताल में ही रहा। रविवार की सुबह परिजन सहित सैकड़ो लोग पहुंच लापरवाही से मौत का आरोप लगा अस्पताल को घेर हंगामा करने लगे। 


हंगामे की सूचना पर पुलिस फोर्स भी पहुंच आक्रोशितो को समझाने बुझाने लगी। दबाव बढ़ता देख अस्पताल संचालकों ने रुपये देकर मामला को सलटाने में लग गए और परिजन कार्रवाई की मांग पर अड़े रहे। घंटों बाद आखिरकार मरी महिला की तीन लाख कीमत देकर अस्पताल संचालक कार्रवाई से बच निकला। उक्त संबंध में एसओ घूरपुर भुवनेश कुमार चौबे ने बताया कि इलाज के दौरान मौत होने की शिकायत पर पुलिस पहुंची थी। बाद में दोनों पक्षों ने समझौता कर लिया था।


Popular posts from this blog

यूपी में होगी नौकरियों की बारिश, तीन लाख युवाओं को मिलेगी नौकरी, जानिए किस विभाग में है कितना पद खाली?

सीएम योगी का बड़ा फैसला, यूपी में अगले तीन महीनों में सभी खाली पदों पर भर्तियां, छह महीनों में नियुक्ति के निर्देश

यूपी में नौकरियों की भरमार, अपनी दक्षता के अनुरूप जॉब तलाशेें युवा, यहां देखें पूरा डिटेल