दोस्त को नौकरी दिलाने के लिए लिया 4 लाख, डिप्टी सीएम का बेटा बन राज्यमंत्री को फोन पर बनाने लगा दबाव, फिर....

पुलिस व क्राइम ब्रांच ने दोनों जालसाजों को किया गिरफ्तार



जनसंदेश न्यूज 
लखनऊ। दोस्त को नौकरी दिलाने के लिए एक युवक ने खुद को डिप्टी सीएम का बेटा बताकर राज्यमंत्री को फोन किया और फिर संविदा पर नौकरी देने का दबाव बनाने लगा। शक के आधार पर राज्यमंत्री के निजी सचिव से इसकी पड़ताल करने की बात कही। निजी सचिव द्वारा किये गये पड़ताल में जालसाजों के साजिश का पता चल गया। जिसके बाद सक्रिय हुई पुलिस व क्राइम ब्रांच की टीम ने दो जालसालों को गिरफ्तार कर लिया। कश्मिनर ने जालसाजों को गिरफ्तार करने वाली टीम को 10 हजार नगद इनाम भी दिया। 
एसीपी हजरतगंज अभय कुमार मिश्र के मुताबिक, राज्यमंत्री के निजी मोबाइल नंबर पर 30 जुलाई को एक युवक ने खुद को डिप्टी सीएम का बेटा बताते हुए कॉल किया। उसके बाद उन्हें अपने दोस्त की किसी मेडिकल कॉलेज में संविदा पर नौकरी दिलाने की बात कहीं।
कॉल पर शक होने पर राज्यमंत्री ने निजी सचिव ललित कुमार दिवाकर से मामले की पड़ताल करने को कहा। निजी सचिव की शिकायत पर जांच में सामने आया कि एटा के प्रेम नगर निवासी राजेश कुमार ने डिप्टी सीएम का बेटा बनकर फोन किया था। जो एटा के ही जाटवपुरवा निवासी सुशील कुमार से नौकरी दिलवाने के नाम पर करीब चार लाख रुपये लिया था। राजधानी के हजरतगंज पुलिस व क्राइम ब्रांच ने दो जालसाजों को शुक्रवार शाम 1090 चौराहा से गिरफ्तार कर लिया। पुलिस टीम को कमिश्नर सुजीत पांडेय ने 10 हजार रुपये का इनाम भी दिया।


 


Popular posts from this blog

यूपी में होगी नौकरियों की बारिश, तीन लाख युवाओं को मिलेगी नौकरी, जानिए किस विभाग में है कितना पद खाली?

सीएम योगी का बड़ा फैसला, यूपी में अगले तीन महीनों में सभी खाली पदों पर भर्तियां, छह महीनों में नियुक्ति के निर्देश

यूपी में नौकरियों की भरमार, अपनी दक्षता के अनुरूप जॉब तलाशेें युवा, यहां देखें पूरा डिटेल