भाजपा प्रदेश कार्यकारिणी की सूची को लेकर पूर्व जिलाध्यक्ष का झलका दर्द, फेसबुक लाइव होकर जताई नाराजगी

प्रदेश मंत्री संजय राय से नहीं गाजीपुर निवासी दिखाएं जानें से दुखी: बृजेंद्र राय

जनसंदेश न्यूज 
गाजीपुर। भाजपा प्रदेश पदाधिकारियों की जारी सूची को लेकर पार्टी के अंदरखाने में भारी नाराजगी है। प्रदेश अध्यक्ष की सूची में जमीनी कार्यकर्ताओं के साथ भेदभाव करने की आवाज उठने लगी है। सूची में चयनित पदाधिकारियों के नाम के आगे  जिला अंकित होने से पार्टी के कार्यकर्ताओ में असमंजस की स्थिति बन गई है। क्योंकि उन्हें डर है कि, किसी जिले से कम से कम पदाधिकारी ही चुने जाएंगे। 


सूची में कुछ ऐसे नाम है, जो जिले में निवास के बजाय किसी अन्य जिले में ही कर्मभूमि बनाकर स्थायी तौर पर निवास करते है। गाजीपुर के जखनियां तहसील स्थित बुढ़नपुर निवासी भाजपा प्रदेश प्रवक्ता आईटी विभाग प्रदेश संयोजक संजय राय के साथ भी ऐसा ही है। जिन्हें प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह ने 22 अगस्त की जारी सूची में प्रदेश मंत्री बनाया है। वह गाजीपुर मूल निवास होने के बावजूद गोरखपुर, लखनऊ में ही रहते है। 


भाजपा के वरिष्ठ नेता पूर्व जिलाध्यक्ष बृजेन्द्र राय ने सूची में संजय राय के नाम के आगे गाजीपुर अंकित करने को लेकर विरोध जताया है। इसके साथ ही उनका मानना है कि संजय राय अच्छे कार्यकर्ता है, भाजपा द्वारा प्रदेश मंत्री बनाया जाना सराहनीय कदम है। बृजेन्द्र राय के अनुसार गाजीपुर जिला अंकित होने से जिले में कार्य कर रहे पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ धोखा हो सकता है। पार्टी के इस रवैये से कार्यकर्ताओ का मनोबल टूट सकता है। जो कार्यकर्ता पार्टी के लिए परिवार को छोड़कर दिन रात गर्मी, जाड़ा, बरसात किसी भी दिन में पूरे तन्मयता से कार्य में लगा रहता है। उसके सामने प्रदेश नेतृत्व की यह सूची निराश कर देने वाली है।


बृजेन्द्र राय फेसबुक पर लाइव होकर समर्थको सहित कार्यकताओं से अपनी पीड़ा बताई। जिसमें अधिकतर कार्यकर्ताओं ने उनकी बातों पर सहमती जताते हुए अपनी बात रखी। प्रदेश नेतृत्व के इस फैसले को लेकर कार्यकर्ताओ में मायूसी है। जबकि  जिले में भाजपा के दिग्गजों की बात करें तो उनमें कृष्ण बिहारी राय, सुनील सिंह, रामतेज पांडेय तथा प्रभुनाथ चौहान सहित आदि कार्यकर्ता इस पद के लिए योग्य थे। जिन्होंने पार्टी के लिए अपना पूरा समय दिया है। 


 


Popular posts from this blog

यूपी में होगी नौकरियों की बारिश, तीन लाख युवाओं को मिलेगी नौकरी, जानिए किस विभाग में है कितना पद खाली?

सीएम योगी का बड़ा फैसला, यूपी में अगले तीन महीनों में सभी खाली पदों पर भर्तियां, छह महीनों में नियुक्ति के निर्देश

यूपी में नौकरियों की भरमार, अपनी दक्षता के अनुरूप जॉब तलाशेें युवा, यहां देखें पूरा डिटेल