राबर्ट्सगंज में मेन मार्केट की दुकानें 14 दिनों के लिए बंद, नगर हुआ सील, सोनांचाल में आज फिर मिले इतने संक्रमित


कारोना संक्रमित मरीज मिलने के बाद रावर्ट्सगंज नगर सील


बढ़ौली चौराहा से चंडी तिराहे तक मुख्य बाजार को 14 दिनों के लिए सील, आवागमन पर प्रतिबंध

जनसंदेश न्यूज
सोनभद्र। जिला प्रशासन ने एक दिन पूर्व जिला अस्पताल में तैनात स्वास्थ्य कर्मी के कोरोना पॉजीटिव मिलने के बाद सोमवार की देर रात राबर्ट्सगंज नगर के बढ़ौली चौराहा से चंडी तिराहा तक मुख्य मार्केट को सील कर दिया। संपर्क मार्गों व गलियों को भी बांस-बल्ली लगाकर बंद करते हुए क्षेत्र की सभी दुकानों को 14 दिनों के लिए बंद करने का निर्देश दिया गया है। हॉट स्पॉट को सील किए जाने से मेन मार्केट में मंगलवार को सन्नाटा छाया रहा। यहां रहने वालों के जरूरत के सामानों की होम डिलेवरी की जा रही है।
शीतला मंदिर चौराहा के समीप पन्नूगंज व घोरावल की तरफ जाने वाले मार्ग को भी बांस बल्ली लगाकर सील किया गया है। बैरिकेडिंग करने के बावजूद तमाम बाइक सवार क्षेत्र में घुसते रहे। पहले तो पुलिस ने समझाने की कोशिश की, लेकिन जब नहीं मानें तो शीतला मंदिर चौराहे पर बाइक सवारों का चालान शुरू हुआ। चालान होने की खबर जब सार्वजनिक हुई तो लोगों की आवाजाही काफी हद तक थम सकी। सील किए गए क्षेत्र की सभी दुकानों को भी 14 दिनों के लिए बंद कर दिया गया है और लोगों को जरूरत के सामानों की होम डिलेवरी की जा रही है। 
पुलिस लोगों को मास्क पहनने व दो गज की दूरी बनाए रखने की हिदायत दे रही है। इसके अलावा खान निरीक्षक के चालक के पॉजिटिव मिलने पर उसके मूल निवास बरवन का वह क्षेत्र भी सील कर दिया गया है, जहां उसका घर है। खनिज कार्यालय को भी सैनिटाइज करने के बाद 48 घंटे के लिए सील किया गया है। जिला कारागार में नौ बंदियों व आठ पुलिस कर्मियों के कोरोना संक्रमित मिलने पर कारागार में भी एहतियात बरती जा रहा है। बंदियों से मिलने पर पहले से ही रोक थी जिला प्रशासन अब सभी बंदियों व बंदी रक्षकों का कोरोना टेस्ट कराने की तैयारी कर रहा है।


बीजपुर व ओबरा में मिले कोरोना पॉजीटिव, हड़कंप
बीजपुर/ओबरा। जिले में मंगलवार को लगातार दूसरे दिन कोरोना पॉजीटिव केस मिलने का सिलसिला जारी रहा। नधिरा निवासी एक युवक थाना बभनी ठेकेदार के मार्फत रिहंद परियोजना के एनटीपी प्लांट के अंदर दैनिक मजदूर के रूप में ओएडएम विभाग में कार्यरत था। बताया गया कि उसका सैंपल तीन जुलाई को जांच हेतु गया था और सात जुलाई को उसकी रिपोर्ट पॉजीटिव आते ही विभाग सहित परियोजना परिसर तथा ठेकेदार और आस-पास के इलाके व उसके निवास स्थान नधिरा तक हड़कंप मच गया। 
प्राप्त रिपोर्ट के आधार पर उक्त मजदूर को कार्य के दौरान प्लांट के अंदर से आनन फानन में परियोजना परिसर स्थित नीलगिरी के क्वारन्टीन सेंटर पहुंचाया गया। जहां जिले से आई स्वास्थ्य विभाग की टीम उसे अपने साथ जिला अस्पताल ले गयी। गौरतलब हो कि इसके पहले एक अन्य युवक की कोरोना पॉजीटिव की पुष्टि हुई थी, लेकिन वह 21 जुलाई को कोरोना को हराकर पूर्ण रूप से स्वस्थ होकर अपने घर लौट चुके हैं। उधर जिला अस्पताल में भर्ती ओबरा निवासी मरीज एक 38 वर्षीय मरीज की ट्रू नाट मशीन से जांच में कोराना के लक्षण मिलने के बाद उसे उपचार के लिए बीएचयू भेजा दिया गया।


Popular posts from this blog

यूपी में होगी नौकरियों की बारिश, तीन लाख युवाओं को मिलेगी नौकरी, जानिए किस विभाग में है कितना पद खाली?

सीएम योगी का बड़ा फैसला, यूपी में अगले तीन महीनों में सभी खाली पदों पर भर्तियां, छह महीनों में नियुक्ति के निर्देश

यूपी में नौकरियों की भरमार, अपनी दक्षता के अनुरूप जॉब तलाशेें युवा, यहां देखें पूरा डिटेल