मारपीट के बाद बीएचयू में जूनियर डाक्टरों का हड़ताल, परेशान हुए मरीज


बीएचयू ट्रामा सेंटर में मारपीट के बाद हड़ताल पर गये जूनियर डॉक्टर

आरोप-मरीज दिखाने आए छात्रों ने की हाथापाई, मारपीट


पुलिस ने एक को किया गिरफ्तार, अन्य की तलाश जारी



जनसंदेश न्यूज़
वाराणसी। बीएचयू ट्रामा सेंटर में शुक्रवार को चिकित्सक से मारपीट से नाराज और विवि प्रशासन के साथ ही पुलिस बल की ओर से भी कोई सुरक्षा न मिलने की वजह से रेजीडेंट चिकित्सक व कर्मचारी शनिवार की सुबह ही विरोध करते हुए हड़ताल पर चले गए। रेजीडेंट चिकित्सकों के हड़ताल पर चले जाने से मरीजों और उनके तीमारदारों को काफी फजीहत झेलनी पड़ी। सर्वाधिक परेशान दूरदराज से आए मरीजों और उनके तीमारदारों को उठानी पड़ा। इसका फायदा कई निजी अस्पताल के संचालकों ने खूब उठाया। 
हड़ताली चिकित्सकों ने बताया कि बीएचयू के कुछ छात्र सोनभद्र के एक मरीजों को दिखानें के लिए डा. सौरभ कुमार सिंह के पास पहुंचे और तुरंत देखने का दबाव बनाने लगे। चिकित्सक ने कुछ देर रुकने को कहा तो छात्रों को यह बात नागवार लगी और वे चले गये। बाद में तीन अन्य लोगों को लेकर पहुंचे और गाली-गलौच करने लगे। दुर्व्यवहार से क्षुब्ध चिकित्सक जब उठकर जाने लगे तो आरोपित उन्हें धक्का देकर हाथापाई करने लगे। सूचना पर जब तक पुलिस पहुंचती, आरोपित फरार हो गए। प्रत्यक्षदर्शियों की मानें तो इसी बीच प्रॉक्टोरियल बोर्ड के सुरक्षाकर्मी वहां पहुंच गये और एक आरोपित को पकड़ कर पुलिस के हवाले कर दिया। पकड़े गए आरोपित का नाम बद्री विशाल सिंह है, जो सोनभद्र निवासी है। इंस्पेक्टर लंका भारत भूषण तिवारी ने बताया कि ट्रामा सेंटर के ओएसडी संजीव गुप्ता की ओर से एक नामजद व तीन अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। मारपीट में शामिल एक आरोपित गिरफ्तार भी कर लिया गया है। वहीं सीसीटीवी फुटेज से अन्य आरोपियों की पहचान करने का प्रयास चल रहा है। 


 


Popular posts from this blog

यूपी में होगी नौकरियों की बारिश, तीन लाख युवाओं को मिलेगी नौकरी, जानिए किस विभाग में है कितना पद खाली?

सीएम योगी का बड़ा फैसला, यूपी में अगले तीन महीनों में सभी खाली पदों पर भर्तियां, छह महीनों में नियुक्ति के निर्देश

यूपी में नौकरियों की भरमार, अपनी दक्षता के अनुरूप जॉब तलाशेें युवा, यहां देखें पूरा डिटेल